Ling(Gender)(लिंग)


स्त्रीलिंग शब्द (Feminine)

अ- अँगड़ाई, अँतड़ी, अकड़, अक्ल, अदालत, अनबन, अप्सरा, अफवाह, अपेक्षा, अपील, अहिंसा, अरहर, अवस्था।

आ- आँच, आँत, आग, आजीविका, आज्ञा, आत्मा, आत्महत्या, आदत, आन, आपदा, आफत, आमद, आय, आयु, आराधना,आवाज, आस्तीन, आह, आहट, आशिष, आँख।

इ, ई- इंच, इन्द्रिय, इच्छा, इजाजत, इज्जत, इमारत, इला, ईट, ईद, ईख, ईर्ष्या।

उ, ऊ- उड़ान, उथल-पुथल, उपासना, उपेक्षा, उमंग, उम्र, उर्दू (भाषा), उलझन, उषा, ऊब।

ए, ऐ- एकता, ऐंठ, ऐंठन, ऐनक।

ओ, औ- ओट, ओस, औलाद।

क- कक्षा, कटुता, कड़क, कतार, कथा, कदर, कन्या, कमर, कमाई, कमान, कमीज, करवट, करुणा, कसक, कसम, कसरत, कपास, कसौटी, कस्तूरी, काँगरेस, काश्त, करतूत, किस्मत, किशमिश, क़िस्त (ऋण चुकाने का भाग), कीमत, कील, कुंजी, कुटिया, कुशल(कुशलता), कुल्हाड़ी, कूक, कृपा, कैद, कोख, कोयल, क्रिया, क्रीड़ा, क्षमा।

ख- खटपट, खटास, खटिया, खड़क, खडांऊँ, खनक, खपत, खबर, खरीद, खींच, खरोंच, खाँड़, खाई, खाज, खाट, खातिर, खाद, खाल, खान (खनि), खिजाँ, खिदमत, खोच, खीझ, खीर, खील, खुदाई, खुरमा, खुशामद, खैरात, खोट, खोह।

ग- गंगा, गन्ध, गजल, गटपट, गठिया, गड़बड़, गणना, गति, गदा, गनीमत, गफलत, गरज, गर्दन, गरिमा, गर्द, गर्दिश, गाँठ, गाजर, गाज (बिजली), गागर, गाथा, गाद, गिटपिट, गिरफ्त, गिरह, गिलहरी, गीता, गीतिका, गुंजाइश, गुड़िया, गुड्डी, गुफा, गुरुता, गेरू, गुलेल, गूज, गैल, गैस, गोट, गोद, गोपिका, गौ।

घ- घटा, घटिका, घास, घिन, घुड़दौड़, घुड़साल, घूस, घृणा, घोषणा।

च- चमेली, चकई, चटक (चमक-दमक), चट्टान, चपत, चपला, चर्चा, चमक, चहक, चहल-पहल, चाँदी, चाँप, चाट, चादर, चारपाई, चाल, चाह, चाहत, चालढाल, चिकित्सा, चिट, चिमनी, चिलक, चिल्लाहट, चिढ, चिता, चिन्ता, चित्रकला, चिनक, चिनगारी, चिप्पी, चिलम, चील, चीख, चींटी, चीनी, चुटिया, चुड़ैल, चुनरी, चुनौती, चुहल, चुहिया, चूक, चें-चें, चेचक, चेतना, चेष्टा, चोंच, चोट, चौपड़, चौखट।

छ- छटा, छत, छमछम, छलाँग, छवि, छाँह, छाछ, छानबीन, छाप, छाया, छाल, छींक, छींट, छीछालेदर, छूट, छूत, छेनी, छुआछूत।

ज- जंग, जंजीर, जँभाई, जगह, जटा, जड़, जनता, जमात, जलवायु, जमानत, जमावट, जमीन, जलन, जय, जरा, जरूरत, जाँच, जाँघ, जागीर, जान, जायदाद, जिज्ञासा, जिद, जिरह, जिल्द, जिल्लत, जिह्ना, जीत, जीभ, जूँ, जूठन, जेब, जेवनार, जोंक, जोत, ज्वाला।

झ- झंकार, झंझट, झख, झिझक, झड़प, झनकार, झपक, झपट, झपास, झरझर, झकझक, झलमल, झाड़फूंक, झाड़(झाड़ने की क्रिया), झाड़, झाँझ, झाँझर, झाँप, झाड़न, झाल, (तितास), झालर, झिड़क, झील, झूम।

ट- टकसाल, टक्कर, टपक, टहल, टाँक, टाँग, टाँय-टाँय, टाप, टाल-मटोल, टिकिया, टिप-टिप, टिप्पणी, टीक, टीपटाप, टीमटाम, टीस, टूट, टेंट, टेंटे, टेक, टेर, टोह, टोक, ट्रेन।

ठ- ठण्डक, ठक-ठक, ठनक, ठमक, ठिठक, ठिलिया, ठूँठ, ठेक, ठोकर, ठेस।

ड- डग, डगर, डपट, डाक, डाट, डाँक, डाल, डींग, डीठ, डोर, डिबिया।

ढ- ढोलक।

त- तन्द्रा, तकरीर, तकदीर, तकरार, तड़क-भड़क, तड़प, तबीयत, तमत्रा, तरंग, तरकीब, तरफ, तरह, तरावट, तराश, तलब, तलवार, तलाश, तशरीफ, तह, तहजीब, तहसील, तान, ताक-झाँक, ताकत, तादाद, ताकीद, तातील, तारीफ, तालीम, तासीर, तिजारत, तीज, तुक, तुला, तोंद, तोबा, तोप, तोल, तोशक, त्योरी, त्रिया।

थ- थकान, थकावट, थरथर, थलिया, थाप, थाह।

द- दक्षिण, दगा, दतवन, दमक, दरखास्त, दरगाह, दरार, दलदल, दस्तक, दहाड़, दारू, दहशत, दावत, दिनचर्या, दिव्या, दीक्षा, दीठ, दीद, दीमक, दीवार, दुआ, दुकान, दुविधा, दुत्कार, दुम, दूरबीन, दुनिया, दुर्दशा, दूर, दूब, देखभाल, देखरेख, देन, देह।

ध- धड़क, धड़कन, धरपकड़, धमक, धरा, धरोहर, धाक, धातु, धाय, धार, धारणा, धुन्ध, धुन, धूम, धूप (सूर्य-प्रकाश), धूपछाँह, धौंक, धौंस, ध्वजा।

न- नकल, नस (स्त्रायु), नकाव, नकेल, नजर, नहर, नजाकत, नजात, नफरत, नफासत, नसीहत, नब्ज, नमाज, नाँद, नाक, निगाह, निद्रा, निराशा, निशा, निष्ठा, नींद, नीयत, नुमाइश, नोक, नोकझोंक, नौबत, नालिश, नेत्री।

प- पंचायत, पंगत, पकड़, पखावज, पछाड़, पतवार, पटपट, पतझड़, पताका, पत्तल, पनाह, परख, पसन्द, परवाह, परत, परात, परिक्रमा, परिषद, परीक्षा, पलटन, पहचान, पहुँच, पायल, पिपासा, पिस्तौल, पुलिस, पुश्त, पुड़िया, पुकार, पूछताछ, पूँछ, पेंसिल, पेंशन, पोशाक, पैदावार, पौध, प्रकिया, प्रतिज्ञा, प्रतिभा, प्रतीक्षा, प्रभा।

फ- फजीहत, फटकार, फटकन, फतह, फरियाद, फसल, फिक्र, फुरसत, फुलिया, फुहार, फूंक, फूट, फीस, फौज।

ब- बन्दूक, बकवास, बयार, बगल, बचत, बदबू, बदौलत, बधाई, बनावट, बरात, बर्दाश्त, बर्फ, बला, बहार, बाँह, बातचीत, बाबत, बरसात, बुलाहट, बूँद, बूझ, बेर (दफा या बार), बैठक, बोतल, बोलचाल, बौखलाहट, बौछार।

भ-भगदड़, भड़क, भनक, भभक, भरमार, भभूत, भाँग, भाप, भार्या, भिक्षा, भीख, भीड़, भुजा, भूख, भेंट, भेड़, भैंस, भौंह।

म- मंजिल, मंशा, मचक, मचान, मजाल, मखमल, मटक, मणि, मसनद, ममता, मरम्मत, मर्यादा, मलमल, मशाल, मज्जा, मशीन, मस्जिद, महक, मसल, महफिल, महिमा, माँग, माता, मात्रा, माया, माप, माला, मिठास, मिर्च, मिलावट, मीनार, मुद्रा, मुराद, मुलाकात, मुसकान, मुसीबत, मुस्कराहट, मुहब्बत, मुहर, मूँग, मूँछ, मूर्खता, मेखला, मेहनत, मैना, मैल, मौज, मौत, मृत्यु।

य- यमुना, याचना, यादगार, यातना, यात्रा, यामा, योजना।

र- रक्षा, रचना, रात, राह, रेखा, रंगत, रकम, रंग, रगड़, रफ्तार, रस्म, राख, रामायण, राय, राहत, रियासत, रिमझिम, रीढ़, रुकावट, रूह, रेणु, रेत (बालू), रेल, रोक, रोकड़, रोर, रौनक, रोकटोक,रोटी।

ल- लौंग, लड़ाई, लता, ललकार, लात, लहर, लार, लालटेन, लंका, लकीर, लगन, लगाम, लटक, लताड़, लचर, लज्जा, लट, लपक, ललक, ललकार, लहर, लात, लाज, लालमिर्च, लाश, लीक, लोटपोट, लू।

व- वकालत, वायु, विद्या, विनय, वसीयत, विजय, विदाई, विधवा, व्यथा, विदुषी।

श- शंका, शक्कर, शराब, शान, शाम, शरण, शर्त, शतरंज, शक्ल, शराफत, शबनम, शान, शाखा, शिखा, शिकायत, श्रद्धा। स- सरसों, संस्कृत, संस्था, सजावट, सड़क, समझ, सभ्यता, समस्या, सरकार, ससुराल, साँझ, साँस, सिगरेट, सीमा, सुधा, सुविधा, सुबह, सूझ, सेना, सैर, साजिश, सनक, सन्तान (औलाद), सम्पदा, संसद।

ह-हजामत, हड़ताल, हत्या, हवा, हलचल, हाय, हाट, हालत, हिंसा, हिचक, हिम्मत, हींग, हरकत, हड़प, हद, हकीकत, हिफाजत, हैसियत, हिम्मत।

पुलिंग शब्दों की सूची और उनका वाक्य-प्रयोग :

शब्द वाक्य शब्द वाक्य
प्राण- उसके प्राण उड़ गये। घी- घी महँगा है।
अपराध- उनका अपराध क्षमा के योग्य है। अकाल- राजस्थान में भीषण अकाल पड़ा है।
आईना- आईना टूट गया। आयोजन- पूजा का आयोजन हो रहा है।
अम्बार- किताबों का अम्बार लगा हुआ है। आँसू- उनके आँसू निकल पड़े।
इत्र- यह गुलाब का इत्र है। ईंधन- ईंधन जल गया।
कंबल- कंबल मोटा है। कफन- कफन छोटा है।
कवच- यह लोहे का कवच है। कीचड़- कीचड़ सुख गया है।
कुआँ- कुआँ गहरा है। कुहासा- कुहासा छाया है।
गिरगिट- गिरगिट रंग बदलता है। गुनाह- उनका गुनाह क्या है ?
खलिहान- यह राम का खलिहान है। घाव- घाव पक गया है।
चाबुक- उसका चाबुक गिर पड़ा। चुनाव- चुनाव आ गया।
छप्पर- वह फूस का छप्पर है। जहाज- जहाज डूब गया।
जख्म- जख्म हरा हो गया। जुलूस- जुलूस लंबा है।
जेल- यह पटना का जेल है। जौ- जौ खाने में अच्छा नहीं लगता।
टिकट- यह रेल का टिकट है। तकिया- यह छोटू का तकिया है।
तीर- हाथ से तीर छूट गया। तौलिया- यह डी० सी० एम० का तौलिया है।
दंगा- दंगा अच्छा नहीं होता है। दाग- पान का दाग नहीं छूटता।
नकद- आपके पास नकद कितना है ? नीड़- मेरा नीड़ उजड़ गया।
नीलाम- जमीन को नीलाम होना है। पतंग- पतंग उड़ रहा है।
पहिया- पहिया टूट गया। फर्ज- मेरे प्रति उनका क्या फर्ज है ?
बोझ- बोझ हल्का है। भोर- भोर हो गया।
मोती- मोती चमक रहा है। मोम- मोम पिघल रहा है।
रूमाल- रूमाल फट गया। शोक- उन्हें नाचने का शोक है।
सींग- गाय को दो सींग होता है। हार- यह हार महँगा है।
होश- उनके होश उड़ गये। पानी- पानी गंदा है।
दही- दही खट्टा है। बचपन- बचपन बड़ा सुंदर होता है।
घर- घर सुंदर बना है। पर्वत- पर्वत ऊँचा है।
उमंग- यह अच्छी उमंग है। क्रोध- क्रोध मनुष्य को अंधा बना देता है।
गीत- वह गीत अच्छा है। वृक्ष- वृक्ष सूख गया।

स्त्रीलिंग शब्दों की सूची और उनका वाक्य-प्रयोग :

शब्द वाक्य शब्द वाक्य
आदत- मुझे पान खाने की आदत है। आय- मेरी आय थोड़ी है।
आँख- उनकी आँख बड़ी-बड़ी है। आग- आग लग गयी।
इच्छा- मेरी इच्छा घूमने की है। ईट- ईट पकी नहीं है।
ईष्र्या- दूसरे की संपत्ति से ईष्र्या नहीं करनी चाहिए। उम्र- तुम्हारी उम्र लम्बी है।
ऊब- नीरस बातों से ऊब होती है। कब्र- कब्र खोदी गयी।
कमर- मेरी तो कमर टूट गयी। कसम- मुझे उनकी कसम है।
कलम- कलम टूट गयी। खटिया- उसने मेरी खटिया खड़ी कर दी।
खोज- खोये हुए बच्चे की खोज जारी है। खबर- उनकी मृत्यु की खबर गलत निकली।
गर्दन- मेरी गर्दन फँसी है। घूस- घूस बुरी चीज है।
घात- बिल्ली चूहे की घात में है। चमक- उनके चेहरे की चमक गायब हो गयी।
चिढ- राम की चिढ महँगी पड़ी। चाल- घोड़े की चाल अच्छी है।
चील- आकाश में चील उड़ रही है। छत- छत टूट गयी।
जाँच- जाँच हो रही है। जीभ- जीभ कट गयी।
जूँ- मेरे बाल में जूँ रेंगती है। झंझट- झंझट किसी से नहीं करनी चाहिए।
टाँग- मेरी टाँग टूट गयी। ठेस- ठेस लग गयी।
किताब- किताब पुरानी है। तबीयत- उसकी तबीयत ठीक नहीं है।
थकावट- बिस्तर पर जाते ही थकावट दूर हो गयी। दीवार- दीवार गिर गयी।
देह- उनकी देह मोटी है। धूप- धूप निकल आयी है।
नकल- मेरी नकल मत करो। नहर- नहर गाँव से होकर जाती है।
नब्ज- मैं उसकी नब्ज पहचानता हूँ। प्रतिज्ञा- मेरी प्रतिज्ञा अटल है।
फटकार- उसने फटकार लगायी। बंदूक- यह किसकी बंदूक है ?
बर्फ- बर्फ गिर रही है। बालू- बालू पीली है।
बूँद- पानी की बूँदे गिरी है। भीख- भीख देनी चाहिए।
भीड़- वहाँ भीड़ लगी थी। भूख- मुझे भूख लगी है।
मूँछ- उनकी मूँछे नुकीली हैं। यात्रा- यात्रा अच्छी रही।
लाश- लाश सड़ गयी। लीक- यह लीक कैसी है।
लू- लू चल रही है। शराब- शराब महँगी है।
विजय- उसकी विजय हुई। सजा- उसको सजा हो गयी है।
सड़क- सड़क चौड़ी है। साँझ- साँझ घिर आयी है।