Anekarthi shabd-(अनेकार्थी शब्द)


( भ, म )

भाग- हिस्सा, विभाजन, भाग्य।
मान- इज्जत, अभिमान, नाप-तौल।
मत- राय, वोट, नही।
मधु- शहद, शराब, मीठा, वसन्तऋतु।
मित्र- सूर्य, दोस्त।
महावीर- हनुमान, बहुत बलवान्, जैन तीर्थकर।
मूक- गूँगा, चुप, विवश।

( य, र, ल, व )

योग- नियम, उपाय, मिलन, जोड़। राशि- समूह, मेष, कर्क, आदि राशियाँ।
रस- प्रेम, काव्य के नौ रस, स्वाद, सार।
लक्ष्य- निशाना, उद्देश्य।
वर- दूल्हा, वरदान, श्रेष्ट।
वर्ण- जाति, रंग, अक्षर।
विग्रह- लड़ाई, शरीर, देवता की मृर्ति।
विषम- जो सम न हो, भीषण, बहुत कठिन।
वन- जंगल, जल।
विरोध- वैर, विपरीत भाव।
विधि- कानून, रीति, ईश्वर, भाग्य, ढंग।
विजया- दुर्गा, भाँग।
वार- प्रहार, बारी, दिन।

( श, स )

शिव- मंगल, महादेव, भागयशाली।
शुद्ध- पवित्र, ठीक, जिसमें मिलावट न हो।
सर- तालाब, सिर, पराजित।
सेहत- सुख, स्वास्थ्य। रोग से छुटकारा।
सुधा- अमृत, पानी।
संज्ञा- नाम, चेतना।
शक्ति- देवी, योग्यता, प्रभाव, बल।
सारंग- हाथी, कोयल, कामदेव, सिंह, धनुष भौंरा, मधुमक्खी, कमल।
स्थूल- मोटा, सहज में दिखाई देने या समझ में आने योग्य।
स्नेह- प्रेम, तेल, चिकनाई।

( ह )

हार- आभूषण, पराजय।
हंस- प्राण, पक्षिविशेष।
हस्ती- हाथी, अस्तित्व।
हरकत- गति, चेष्टा, नटखटपन।
हीन- रहित, दीन, निकृष्ट।
हरि- हाथी, विष्णु, पहाड़, सिंह, इन्द्र, घोड़ा, सर्प, बन्दर, वानर, मेढ़क, यमराज, शिव, कृष्ण, किरण, कोयल, हंस।